वरिष्ठ पत्रकार सर्वेश शर्मा का हृदय गति रूक जाने से निधन
युग करवट संवाददाता
मोदीनगर। युग करवट के मोदीनगर प्रभारी वरिष्ठ पत्रकार सर्वेश शर्मा का गुरुवार को हृदयगति रूक जाने से निधन हो गया। काफी लंबे समय से पत्रकारिता जगत से जुड़े रहने वाले सर्वेश शर्मा के निधन से पत्रकारिता, राजनीतिक, सामाजिक, व्यापारिक व अन्य क्षेत्र से जुड़े लोगों ने गहरा शोक जताया है। सर्वेश शर्मा अपने पीछे पत्नी और दो बेटों को छोड़ गए हैं। उनक अंतिम संस्कार कल शुक्रवार दोपहर को मोदीनगर के हापुड़ रोड स्थित श्मशान घाट पर किया गया। उनके अंतिम संस्कार में बड़ी संख्या में लोग उपस्थित थे। सर्वेश शर्मा को क्राइम रिपोटिंग के मास्टर माना जाता था। उन्होंने कई आपराधिक घटनाओं की तह तक जाकर अपनी खबर के माध्यम से उनका खुलासा किया। एक समय ऐसा था जब सर्वेश शर्मा की इंवेस्टिगेटिव रिपोर्टिंग को आधार बनाकर पुलिस घटनाओं की जांच किया करती थी।
सर्वेश शर्मा ने कई कुख्यात गैंग्स्टर को लेकर गहराई वाली रिपोर्ट पेश की थी। कुख्यात मुन्ना बजरंगी के छिपकर मेरठ आने और वारदात को अंजाम देने का प्रयास करने की खबर सबसे पहले सर्वेश शर्मा ने युग करवट में छापी थी। खबर छपने के बाद पुलिस मुन्ना बजरंगी के पीछे लग गई और उसे मेेरठ छोड़कर भागना पड़ा। सर्वेश शर्मा ने पत्रकारिता को एक प्रोफेशन के रूप में नहीं, बल्कि एक मिशन के रूप में लिया। अपनी मौत के चार घंटे पहले तक वे पत्रकारिता में पूरी तरह सक्रिय रहे। युग करवट के समाचार संपादक ने गुरुवार शाम करीब छह बजे उन्हें फोन कर ब्लॉक प्रमुख चुनाव में भोजपुर ब्लॉक के प्रत्याशियों की फोटो और मोबाइल नंबर मांगे तो सर्वेश ने पांच मिनट के भीतर सारी फोटो और मोबाइल नंबर उपलब्ध करा दिए। हालांकि इस दौरान वे वसुंधरा के एक अस्पताल में भर्ती थे। लेकिन उन्होंने इसका जिक्र नहीं किया। समाचार संपादक द्वारा स्वास्थ्य के बारे में पूछे जाने पर सिर्फ इतना कहा-प्रभु कृपा है। इसके कुछ ही घंटे बाद हृदय गति रूक जाने से उनका निधन हो गया।
सर्वेश शर्मा ने पत्रकारिता अपने पिता से सीखी। उनके पिता मोदीनगर से एक पत्रिका निकालते थे। सर्वेश शर्मा उसी के लिए कार्य करने लगे। अपनी अलग अंदाज की क्राइम रिपोर्टिंग के कारण जल्द ही सुर्खियों में आ गए। तब दैनिक हिन्ट के समाचार संपादक जितेंद्र भारद्वाज उन्हें हिन्ट में ले लाए। हिन्ट में सर्वेश शर्मा ने क्राइम रिपोर्टिंग से अपनी एक अलग छवि बनाई। हिन्ट के लिए उन्होंने लंबे समय तक क्राइम रिपोर्टिंग की। कुछ दिनों के लिए वे एक अन्य समाचार पत्र से भी जुड़े। बाद में युग करवट के साथ जुड़ गए। युग करवट के साथ ही वे नवभारत टाइम्स के लिए अंशकालिक रिपोर्टर के तौर पर जुड़े रहे। सर्वेश शर्मा के निधन से गाजियाबाद की पत्रकारिता को भारी क्षति हुई है। एक मंझे और अनुभवी क्राइम रिपोर्टर को खो दिया है।
उनके निधन पर मोदीनगर के पत्रकारों ने भी शोक प्रकट किया है। वे उप्र जर्नलिस्ट एसोसिएशन के जिला गाजियाबाद के अध्यक्ष पद पर रहे। विधायक डॉ मंजू शिवाच, पूर्व विधायक सुदेश शर्मा, भाजपा नेता सतेंद्र त्यागी, स्वदेश जैन, सांसद प्रतिनिधि विनोद गोस्वामी, प्रदीप बोस, मयंक शर्मा, उत्तर प्रदेश जर्नलिस्ट एसोसिएशन के मोदीनगर तहसील अध्यक्ष अनिल गौतम, चंद्रशेखर त्यागी, अनिल त्यागी, योगेश गुप्ता, राजीव, राजकुमार शर्मा, योगेश गौड़, तरुण कुमार आदि ने उनके निधन पर शोक व्यक्त किया है। युग करवट परिवार सर्वेश शर्मा के निधन पर गहरी संवेदना प्रकट करता है। दुख की इस घड़ी में युग करवट परिवार सर्वेश शर्मा के परिवार के साथ खड़ा है।