पुलिस ने दो अभियुक्तों को किया गिरफ्तार
युग करवट संवाददाता
गाजियाबाद। बीती रात एमएमजी अस्पताल में घायल अवस्था में लाए गये अमन नामक युवक के परिजनों एवं उसके दो दर्जन सहयोगियों ने एकराय होकर ना केवल ओपीडी में तैनात अस्पताल के स्टाफ पर जानलेवा हमला बोल दिया था बल्कि हमलावरों ने अराजकता एवं हैवानियत का माहौल पैदा करते हुए उपचार में काम आने वाले उपकरणों को तोड़कर नष्टï कर दिया था। बीती रात मेडिकल स्टाफ पर हुए जानलेवा हमले व भारी तोडफ़ोड़ की घटना से पूरी तरह से दहशतजदां अस्पताल के एक अधिकारी सीनियर फार्मासिस्ट एसपी वर्मा ने बताया कि तांडव मचाने वाले हमलावर उनके कई साथियों को मार डालते अगर वो छिपकर अथवा भागकर अपनी जान नहीं बचाते। श्री वर्मा ने बताया कि यह ऐसी पहली अपराधिक घटना नहीं है जब एमएमजी अस्पताल में रोगियों के तिमारदारों ने उपद्रव किया हो, इससे पहले भी कई बार इस प्रकार के जानलेवा हमले एमएमजी अस्पताल के स्टाफ के ऊपर हो चुके हैं।
श्री वर्मा ने बताया कि बीती रात उनके सहयोगियों के साथ हुई संगीन वारदात की सूचना के बाद जहां अस्पताल के चिकित्सकों व स्टाफ में आक्रोशपूर्ण भय व्याप्त हो गया वहीं जानलेवा हमले के शिकार हुए स्टाफ ने तहरीर देकर घंटाघर कोतवाली में अमन, मन्नू व रियाजुदï्दीन सहित लगभग दो दर्जन अज्ञात हमलावरों के खिलाफ रिपोर्ट भी दर्ज करवा दी। उधर एमएमजी अस्पताल में हुई आगजनी व जानलेवा हमले की घटना के संदर्भ में कोतवाल संदीप सिंह का कहना है कि रात के समय हुई घटना की सूचना मिलते ही पुलिस तुरंत मौके पर पहुंच गई थी। इसके बाद तहरीर के आधार पर हमलावरों के खिलाफ संगीन धाराओं में रिपोर्ट दर्ज करके दो अभियुक्तों को गिरफ्तार भी कर लिया गया।
कोतवाल ने बताया कि उक्त घटना में दोषी शेष हमलावरों की गिरफ्तारी के लिए पुलिस की कई टीम उनके मकानों एवं संभावित ठिकानों पर दबिश दे रही हैं। उन्हें भी शीघ्र ही गिरफ्तार कर लिया जायेगा। बता दें कि रात के समय हुए हमले के बाद एमएमजी अस्पताल के चिकित्सकों व स्टाफ के अलावा कर्मचारियों ने सुबह के समय प्रदर्शन किया।