लखनऊ। अलीगढ़ में जहरीली शराब पीने से मरने वालों की संख्या 36 तक पहुंच गई है। इस मामले में अब तक छह आरोपियों को गिरफ्तार किया गया है। यही नहीं कई लोगों की आंखों की रोशनी भी चली गई है। वहीं जिला आबकारी अधिकारी समेत पांच को सस्पेंड किया गया है।
तीन अलग-अलग इलाकों में सरकारी ठेकों से देसी शराब खरीदी गई थी। शराब पीने से शनिवार दोपहर तक 36 लोगों की मौत हो गई है। वहीं डेढ़ दर्जन से ज्यादा लोगों की हालत अभी भी लगातार नाजुक बनी हुई है। करसुआ, अंडला, हैवतपुर, फतेहपुर, सुजापुर, छेरत गांव के साथ अब रायट गांव के पांच लागों की मौत हो गई है। वहीं शराब पीने से गंभीर हालत में 15 लोग जेएन मेडिकल कॉलेज और जिला अस्पताल में भर्ती किया गया है। मृतकों को मुख्यमंत्री कृषक दुर्घटना कल्याण योजना के तहत 5-5 लाख की आर्थिक सहायता राशि दिए जाने की कार्रवाई शासन-प्रशासन स्तर से की जा रही है। अस्पताल में भर्ती कई लोगों की हालत गंभीर है। वहीं जिन लोगों का इलाज चल रहा है, उनमें से कई ने अपनी आंखों की रोशनी गंवा दी है। उधर, घटना के बाद ग्रामीणों में भारी आक्रोश पनप गया। ग्रामीणों ने प्रशासनिक और पुलिस अधिकारियों के सामने विरोध जताया। घटना के बाद अपर मुख्य सचिव (आबकारी) संजय एस भूसरेड्डी ने अलीगढ़ के जिला आबकारी अधिकारी धीरज शर्मा, आबकारी निरीक्षक राजेश कुमार यादव, चंद्रप्रकाश यादव, प्रधान आबकारी आरक्षी अशोक कुमार और आरक्षी रामराज राना को निलंबित कर दिया है।