नोएडा (युग करवट)। अमेरिका में रहने वाले लोगों के कंप्यूटर तथा लैपटॉप आदि हैक कर उसमें वायरस डालकर उसको ठीक करने के नाम पर ठगी करने वाले एक गैंग के 32 लोगों को थाना बिसरख पुलिस ने आज गिरफ्तार किया है। इनके 20 साथी फरार हैं। पुलिस उनकी तलाश कर रही है। इन लोगों ने हजारों अमेरिकन नागरिकों से ठगी करने की बात स्वीकार की है। पुलिस ने इनके पास से 55 कंप्यूटर, सीपीयू, लैपटॉप, मोबाइल फोन व अन्य सामान बरामद किया है।
अपर पुलिस उपायुक्त जोन द्वितीय अंकुर अग्रवाल ने बताया कि एक सूचना के आधार पर थाना बिसरख पुलिस ने छापेमारी कर अवैध रूप से चल रहे कॉल सेंटर का भंडाफोड़ किया है।
उन्होंने बताया कि पुलिस ने इस बाबत परविंदर, साकेत, अमित, सहित 32 लोगों को गिरफ्तार किया है। उन्होंने बताया कि पूछताछ के दौरान पुलिस को पता चला है, कि अमेरिका में रहने वाले लोगों के कंप्यूटर लैपटॉप में साइबर अटैक करने वाले बदमाश वायरस डाल देते हैं। जो बदमाश कंप्यूटर और लैपटॉप में वायरस डालते हैं, उनसे आज पकड़े गए बदमाशों का टाईअप है।
वायरस डालने वाले बदमाश इन्हें रोजाना सैकड़ों लोगों के नंबर उपलब्ध कराते हैं, जिसके एवज में वहीं से मोटी रकम लेते हैं। अपर उपायुक्त ने बताया कि साइबर हैकर से मिले नंबरों पर आज पकड़े गए अपराधी कॉल करते हैं तथा अपने आपको माइक्रोसॉफ्ट, एप्पल आदि नामी कंपनियों के कर्मचारी बताते हैं।
उन्होंने बताया कि ये लोग पीड़ित अमेरिकन नागरिकों से उनका लैपटॉप कंप्यूटर ठीक करने के नाम पर मोटी रकम लेते हैं, तथा दो बटन दबाते ही उनका प्रॉब्लम सॉल्व हो जाता है। उन्होंने बताया कि पीड़ित इन्हें कंपनी का आदमी समझ कर कहीं शिकायत नहीं करता। अपर उपायुक्त ने बताया कि पूछताछ के दौरान गिरफ्तार बदमाशों ने हजारों अमेरिकन लोगों से करोड़ों की ठगी करने की बात स्वीकार की है। पुलिस इनसे गहनता से पूछताछ कर रही है।