गुरुवार को हुए सीरियल ब्लास्ट में मरने वालों की संख्या १०५ पहुंची
नई दिल्ली। काबुल एयरपोर्ट के बाहर गुरुवार को दो आत्मघाती हमले हुए जिसमें मौतों की संख्या बढ़कर 105 हो गई है। इस हमले में 13 अमेरिकी सैनिक भी मारे गए हैं। वहीं, अमेरिका ने काबुल के नॉर्थ गेट पर फिर से कार बम से हमले की आशंका जाहिर की है और इसको लेकर अलर्ट भी जारी किया है।
अमेरिका की ओर से कहा गया है कि आतंकी कार बम से जल्द ही एक और धमाका कर सकते हैं। अमेरिकन ब्रॉडकास्ट कंपनी के मुताबिक काबुल एयरपोर्ट के नॉर्थ गेट पर काम बम से ब्लास्ट किया जा सकता है। खुफिया एजेंसियों से मिली जानकारी के बाद अमेरिका ने काबुल में अपने सैनिकों व नागरिकों को इसे लेकर अलर्ट कर दिया है।
गुरुवार को काबुल एयरपोर्ट के बाहर दो आत्मघाती हमले में 105 लोगों की मौत हो गई थी जबकि 143 लोग घायल हुए हैं. पेंटागन के सुरक्षा अधिकारी के मुताबिक, इस आतंकी हमले में 13 अमेरिकी सैनिकों की जान गई है और पचास से ज्यादा सैनिक घायल हुए हैं। काबुल धमाके पर अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडन ने कहा कि जिसने भी इसे अंजाम दिया है उसे हम माफ नहीं करेंगे न ही इसे भूलेंगे। शुरुआत से ही इन बम धमाकों के पीछे आतंकी संगठन आईएसआईएस का हाथ होने की बात सामने आ रही थी और देर रात उसने इसकी जिम्मेदारी भी ले ली थी। पाकिस्तान में सक्रिय आईएस आईएस के मावालावी गुट ने इस घटना को अंजाम दिया है।