युग करवट संवाददाता
गाजियाबाद। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने शुक्रवार सुबह देश के नाम संबोधन में तीनों कृषि कानून वापस लेने का ऐलान करते हुए किसानों से आंदोलन समाप्त करने की अपील की। उनके इस ऐलान से आंदोलनरत किसानों में खुशी की लहर दौड़ गई। प्रधानमंत्री की इस घोषणा के बाद किसान आंदोलन का नेतृत्व कर रहे भारतीय किसान यूनियन के राष्टï्रीय प्रवक्ता राकेश टिकैत ने कहा कि आंदोलन तत्काल वापस नहीं होगा। हम उस दिन का इंतजार करेंगे जब कृषि कानूनों को संसद में रद्द किया जाएगा। राकेश टिकैत ने स्पष्टï कहा है कि सरकार न्यूनतम समर्थन मूल्य यानि एमएसपी के साथ-साथ किसानों से संबंधित दूसरे मुद्दों पर भी बातचीत करे। राकेश टिकैत ने पीएम मोदी के ऐलान पर अविश्वास जताते हुए कहा कि अभी बस ऐलान हुआ है। हम संसद से कानूनों की वापसी तक इंतजार करेंगे। उन्होंने कहा कि किसानों से जुड़े अन्य मसलों पर भी बातचीत का रास्ता खुलना चाहिए।