योगी जी का दिल्ली दौरा
केंद्र में प्रधानमंत्री के रूप में नरेंद्र मोदी ने तीसरी बार शपथ ली है। आज मंत्रालयों का बंटवारा भी हो जाएगा। सभी मंत्रियों को काम पर लगाया जाएगा। वहीं अब उत्तर प्रदेश में ढाई साल बाद होने वाले विधानसभा चुनाव की तैयारी अभी से ही भाजपा शुरू करने वाली है। जाहिर है भाजपा हरेक चुनाव के बाद दूसरे चुनाव की तैयारी में लग जाती है। वहीं लोकसभा चुनाव २०२४ में उत्तर प्रदेश में जिस तरह भाजपा की करारी हार हुई और अयोध्या जैसी सीट भी हार गई है। इसको भाजपा किसी हाल में सहन नहीं कर पा रही है। भले ही केंद्र में सरकार बन गई हो लेकिन उत्तर प्रदेश में ये हार भाजपा के लिए एक आईना है। इसीलिए अब उत्तर प्रदेश में बड़े बदलाव की तैयारी को लेकर मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने शीर्ष नेतृत्व से मुलाकात की। हालांकि इसे शिष्टïाचार भेंट बताया जा रहा है, लेकिन इन मुलाकातों के पीछे उत्तर प्रदेश में कितने ठोस कदम उठाये जाएंगे इसको लेकर चर्चा पूरी है, ऐसी जानकारी मिली है। तीसरी आंख ने देखा कि मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की भले ही प्रधानमंत्री ने पीठ थपथपाई हो लेकिन मुख्यमंत्री जरूर बड़े एक्शन की तैयारी में है। बहुत जल्द बड़े स्तर पर पुलिस और प्रशासन के अफसरों के तबादले होने वाले हैं जो अब तक ठीक-ठाक पोस्ट पर तैनात है उन्हें हाशिये पर ले जाया जाएगा। साथ ही नये अफसरों को तैनाती के साथ ये निर्देश भी दिये जाएंगे। अब वो आम कार्यकर्ता की भी सुनवाई करें। वहीं जो मंत्री हैं उनमें से भी कई के मंत्रालय बदले जाएंगे और कुछ की कुर्सी भी जा सकती है। कुछ नये चेहरों को मौका भी दिया जा सकता है। 2014 में जो वोट बैंक भाजपा के साथ आया था वो 2024 में खिसक गया है। ऐसे वोट बैंक को भी भाजपा दोबारा लाने के लिए कुछ नये चेहरों को मौका दिया जाएगा। बहरहाल आने वाले दिनों में उत्तर प्रदेश में बहुत बड़े बदलाव और एक्शन की उम्मीद है। अब किसकी बलि चढ़ती है, कौन हीरो बनता है ये समय ही बताएगा। वहीं भाजपा संगठन में भी बड़े से लेकर छोटे स्तर पर बदलाव होगा। क्योंकि बड़े-बड़े पदाधिकारियों के क्षेत्र में भाजपा धराशायी हो गई। ऐसे नेताओं की भी अब छुट्टी होगी। क्योंकि अब अगला चुनाव विधानसभा का होना है और यदि बदलाव नहीं हुआ तो फिर उत्तर प्रदेश में भाजपा से खिसक जाएगा। ऐसी संभावनाएं भाजपा के अंदर व्यक्त की जा रही है। जय हिंद