युग करवट संवाददाता
गाजियाबाद। स्वामी प्रसाद मौर्य के योगी मंत्रिमंडल से इस्तीफा देने के झटके को भाजपा संभाल भी नहीं पा रही है कि उसे आने वालों समय में और भी बड़े झटके लगने जा रहे हैं। स्वामी प्रसाद के इस्तीफे के बाद प्रदेश में भाजपा के सहयोगी दल अपना दल(एस) के भी सुर बदलने लगे हैं। सूत्रों के अनुसार, भाजपा नेतृत्व अगर अपना दल की मांगों पर गौर नहीं किया तो इसकी नेता और सांसद अनुप्रिया पटेल आगामी कुछ दिनों में मंत्रिमंडल से इस्तीफा दे सकती है। बता दें कि पूर्वी उत्तर प्रदेश के कई जिलों में टिकट बंटवारे को लेकर भाजपा और अपना दल के बीच पेंच फंसा हुआ है। अनुप्रिया पटेल और उनके पति पार्टी के अध्यक्ष आशीष पटेल पिछले काफी समय से टिकट बंटवारे को लेकर भाजपा नेताओं के साथ बैठक की मांग कर रहे हैं लेकिन अभीतक सीट शेयरिंग को लेकर कोई फैसला नहीं हुआ हैै। स्वामी प्रसाद मौर्य के इस्तीफे के बाद अनुप्रिया पटेल का बयान आया है कि भाजपा के नेताओं को सहयोगी दलों के आत्मसम्मान का ख्याल रखना होगा। उनके इस बयान को उनकी नाराजगी के साथ जोड़ा जा रहा है।
सूत्रों के अनुसार, अनुप्रिया पटेल के पति और पार्टी के अध्यक्ष आशीष पटेल समाजवादी पार्टी के संपर्क में है। अगर सीट शेयरिंग पर बात नहीं बनी तो मकर संक्रांति के बाद अनुप्रिया पटेल केंद्रीय मंत्रिमंडल से इस्तीफा दे सकती है। अपना दल (एस) वर्ष 2014 के लोकसभा चुनाव से एनडीए का हिस्सा है। एनडीए के तहत पार्टी ने लोकसभा चुनाव 2014 और 2019 लड़ा है। इसके अलावा वर्ष 2017 के विधानसभा चुनाव में भी अपना दल (एस) ने भाजपा का साथ नहीं छोड़ा। पिछले विधानसभा चुनाव में एनडीए के तहत अपना दल को 12 सीटें दी गई। इसमें से 9 पर पार्टी के उम्मीदवार विजयी हुए थे। इसके बाद से पार्टी की ओर से अधिक सीटों की मांग की जा रही है।