युग करवट संवाददाता
गाजियाबाद। अवैध तरीके से बिल्डर द्वारा वसूली जा रही बिजली दरों के खिलाफ ऑफिसर सिटी-२ राजनगर एक्सटेंशन के वासियों ने डीएम को ज्ञापन सौंपा है।
सोसायटी वासियों ने बताया कि यूपीपीसीएल द्वारा ४००केवी क्षमता का विद्युत भार ४०० परिवारों में बांटा गया है। अगर प्रति फ्लैट लोड माना जाए तो ४००केवी के स्थान पर १६००केवी का लोड वितरित किया जा रहा है। बिल्डर द्वारा सभी निवासियों से प्रति माह ११५ रुपए प्रति केवी का अतिरिक्त फिक्स चार्ज लिया जा रहा है। विभाग द्वारा ६.९७ प्रति यूनिट और मेंटेनेंस विभाग द्वारा ७.३५ यूनिट के हिसाब से बिल लिया जा रहा है। बिल में सोसायटी के अंदर की गतिवधियों जैसे फ्लैट्स कॉमन एरिया, लिफ्ट, प्रोजेक्ट कंस्ट्रक्शन, सोसायटी के बाहर रह रहे लोगों को बिजली दिए जाने तक के सभी चार्जेस शामिल हैं। यूपीपीसीएल के अनुसार ०.३८ प्रति यूनिट तथा फिक्स चार्जेस ११५ रूपये केवी के हिसाब से अतिरिक्त भुगतान लिया जा रहा है जो पूरी तरह से अवैध है। जनरेटर से बिजली की दर २१ रुपये प्रति यूनिट रखी गई है जो बहुत अधिक है। स्थानीय लोगों ने डीएम को ज्ञापन सौंपकर अवैध रूप से वसूली जा रही बिजली दरों के भुगतान पर रोक लगाने की मांग की है। ज्ञापन देने वालों में टीआर पांडेय, अमित गुप्ता, मयंंक अग्रवाल व डीसी अग्रवाल आदि मौजूद रहे।