युग करवट संवाददाता
मसूरी। मटियाला गांव के जंगल में गंभीर रूप से घायल मिले रेलवे ठेकेदार अजय उर्फ छोटू की बीती रात मौत हो जाने के बाद जहां उसके परिवार में कोहराम मच गया वहीं पुलिस में भी हडक़ंप मच गया। पुलिस ने उसके शव को पोस्टमार्टम के लिये भिजवा दिया। क्या लुटेरों द्वारा ७० लाख की रकम की लूट का विरोध किये जाने पर उसकी धारदार हथियार से हत्या की गई या फिर अजय ने किसी वजह से उसने हाथों की नसें काटकर आत्महत्या कर ली, पुलिस ने इन सवालों के जवाब ढूंडने के प्रयास शुरू कर दिये है। इस संदर्भ में सीओ सदर एएसपी आकाश पटेल का कहना है कि प्राथमिक जांच के दौरान जो तथ्य सामने आये हैं उनसे पता चला है कि अजय उर्फ छोटू निवासी दुहाई रेलवे विभाग में ठेकेदारी करता था। गुरूवार को अजय गुरुग्राम ेसे कैश लाने की बात कहकर घर से निकला था। कल उसने अपने भाई नवीन को कॉल करके घबराई हुई आवाज में बताया कि बदमाश उससे ७० लाख की रकम लूटकर उसकी हत्या करने जा रहे हैं। अजय ने अपनी जान बचाने की गुहार लगाते हुए पुलिस को भी फोन करने की बात अपने भाई से कही।