नई दिल्ली। दिल्ली- हावड़ा मुख्य रेल लाइन के बक्सर और आरा स्टेशनों पर जमकर तोडफ़ोड़ हुई है और रेल संपत्ति को नुकसान पहुंचाया गया है। विरोध की यह कड़ी भागलपुर से बक्सर तक देखने को मिल रही है। कई जगह ट्रेनों की बोगियों में आग लगा दी गई है, तो आरा में ट्रेन पर पथराव से कई यात्री जख्मी हो गए हैं। सिवान, छपरा, जहानाबाद, अरवल, नवादा, पटना, मुजफ्फरपुर, कैमूर सहित कई शहरों में पिछले दो दिनों में विरोध तेज हुआ है। इसके अलावा आगरा, बुलंदशहर, जयपुर और उन्नाव आदि शहरों में भी उग्र प्रदर्शन हुए।
सेना में भर्ती के लिए लाई गई ‘अग्निपथ स्कीम’ का विरोध जारी है। राजनीतिक दलों के साथ-साथ आम युवा भी इसका विरोध जता रहे हैं। खासकर बिहार में बवाल बढ़ता जा रहा है। इसके अलावा गुरुग्राम में भी आज प्रदर्शन हुआ है। आज बिहार के जहानाबाद, बक्सर में छात्रों ने बवाल किया है। वहां छात्रों ने सडक़ों को जाम किया और आगजनी भी हुई। छात्रों ने जहानाबाद में एनएच-83 और एनएच-110 जाम कर आगजनी की। अग्निपथ के विरोध में छात्रों ने आरा में रेलवे ट्रैक को जाम कर दिया है। ‘अग्निपथ’ स्कीम का विरोध गुरुग्राम में भी हो रहा है। गुरुग्राम में दिल्ली-जयपुर हाइवे को जाम किया गया है। बिलासपुर थाना क्षेत्र से लगते एनएच-48 को सैकड़ों युवाओं ने जाम किया है। युवाओं का कहना है कि पिछले 3 साल से फौज में भर्ती नहीं की गई है और अब सिर्फ 4 साल की भर्ती की जाएगी। इससे पहले बक्सर, मुजफ्फरपुर, गया में भी विरोध हुआ था। सेना में चार साल की भर्ती वाली इस स्कीम से नाराज युवाओं ने कल पत्थरबाजी भी की थी। बिहार के बक्सर जिले में रेल यातायात और सडक़ ट्रैफिक बाधित किया गया था। बक्सर में करीब 100 युवाओं ने रेलवे स्टेशन पर विरोध किया था। इसकी वजह से ट्रेन सर्विस भी बाधित हुई थी। प्रदर्शन की वजह से जनशताब्दी एक्सप्रेस करीब 30 मिनट लेट हो गई थी। बक्सर में आज भी प्रदर्शन जारी है।