युग करवट ब्यूरो
नई दिल्ली। अपने बयानों से सरकार को परेशानी में डालने वाले मेघायल के राज्यपाल और पश्चिम उत्तर प्रदेश के प्रमुख नेता सत्यपाल मलिक ने एक बार फिर ऐसा बयान दिया है, जिससे केंद्र और भाजपा को जवाब देने में मुश्किलें आ सकती है। उन्होंने कहा कि अगर किसानों की मांगे नहीं मानी गईं तो यह सरकार दोबारा नहीं आएगी। सत्यपाल मलिक ने कहा कि पश्चिम उत्तर प्रदेश के कई जिलों जैसे, मेरठ, बागपत, मुजफ्फरनगर, शामली, सहारनपुर में कृषि कानूनों को लेकर लोगों में जबर्दस्त गुस्सा है। अगर किसानों की बातें नहीं मानी गई तो इन जिलों के गांवों में भाजपा नेता घुस नहीं पाएंगे। कश्मीर में टारगेटेड हत्याओं पर राज्यपाल सत्यपाल मलिक ने कहा कि मेरे रहते हुए कोई आतंकवादी श्रीनगर के 50-100 किलोमीटर के दायरे में घुस नहीं सकता था। अब श्रीनगर शहर में घुसकर मार रहे हैं। आतंकी गरीब लोगों को मार रहे हैं, इन घटनाओं का मैं विश्लेषण नहीं कर सकता, यह दर्दनाक है। किसान आंदोलन पर उन्होंने कहा कि इस समय किसानों के साथ गलत हो रहा है।
पिछले 10 महीने से घर छोड़कर किसान दिल्ली की सीमाओं पर पड़े हुए हैं। मैं उनके साथ हूं, किसानों के लिए प्रधानमंत्री, गृह मंत्री के साथ झगड़ा कर चुका हूं। सबको कह चुका हूं कि किसानों के साथ गलत हो रहा है। सत्यपाल मलिक ने कहा कि, सरकारों का मिजाज आसमान पर पहुंच जाता है। लोगों की तकलीफ नहीं दिखती। अगर किसानों की मांगे नहीं मानी गईं तो यह सरकार दोबारा नहीं आएगी।