आरोपियों से पूछताछ कर रही हैं गुप्तचर एजेंसियां
युगकरवट ब्यूरो
नोएडा। थाना सेक्टर-58 पुलिस ने एक अंतरराष्ट्रीय कॉल एक्सचेंजर का खुलासा किया है। पुलिस ने इस मामले में तीन लोगों को गिरफ्तार कर, उनके पास से भारी मात्रा में फर्जी दस्तावेज के आधार पर लिए गए मोबाइल फोन के सिम कार्ड, सिम बॉक्स, सर्वर, लैपटॉप, सीपीयू, नगदी आदि बरामद किया है।
पूछताछ के दौरान पुलिस को पता चला है कि यह लोग अरब देश से आने वाली अंतरराष्ट्रीय काल को गेटवे के माध्यम से सिस्को का सर्वर प्रयोग कर, पीआरआई के माध्यम से लोकल कॉल में बदल देते थे। यह लोग रोजाना भारत सरकार को लाखों रुपए का चूना लगा रहे थे। गिरफ्तार आरोपियों से गुप्तचर एजेंसियां भी पूछताछ कर रही हैं।
सहायक पुलिस आयुक्त रजनीश वर्मा ने बताया कि एक सूचना के आधार पर थाना सेक्टर- 58 पुलिस, टाटा मोबाइल कंपनी तथा डिपार्टमेंट ऑफ टेलीकॉम की टीम ने सेक्टर-62 स्थित आइथम टावर मे संयुक्त रूप से छापा मारा। यहां से पुलिस ने ओवैस आलम मलिक, पुष्पेंद्र कुमार तथा पवन कुमार को गिरफ्तार किया है। उन्होंने बताया कि ये लोग यहां पर अवैध रूप से अंतरराष्ट्रीय काल एक्सचेंजर चला रहे थे। उन्होंने बताया कि इनके पास से पुलिस ने फर्जी दस्तावेज के आधार पर हासिल किए गए 150 मोबाइल फोन के सिम कार्ड, कई सिम बॉक्स, 5 सरवर, इंटरनेट सर्वर, लैपटॉप, डेस्क टाप, इंटरनेट कॉल सर्वर, नगदी, की-बोर्ड आदि बरामद किया है। उन्होंने बताया कि पूछताछ के दौरान गिरफ्तार आरोपी ओवेश आलम ने मलिक ने बताया कि वे अरब कंट्री से आने वाली वॉइस कॉल को डाइवर्ट कर गेटवे के माध्यम से सिस्को का सर्वर लगाकर पीआरआई के जरिए लोकल कॉल में बदल देते है। उन्होंने बताया कि पूछताछ के दौरान पुलिस को पता चला है कि इन लोगों ने टाटा कंपनी से डीलरशिप लिया था तथा सिम बॉक्स का प्रयोग करके ये लोग कॉल करवाते थे। सिम बॉक्स लगने की वजह से मोबाइल फोन का लोकेशन पता नहीं चलता। उन्होंने बताया कि इनके द्वारा किया जा रहा कृत्य देश की सुरक्षा के लिए भी घातक है।
उन्होंने बताया कि इनके एक्सचेंजर के माध्यम से विदेश में रहने वाले राष्ट्रद्रोही ताकतें अगर किसी से संपर्क करती हैं तो वह कॉल ट्रेस नहीं हो पाती। उन्होंने बताया कि गिरफ्तार आरोपियों से गुप्तचर एजेंसियों के अधिकारी भी पूछताछ कर रहे हैं। इनसे यह पता लगाने का प्रयास किया जा रहा है, कि अब तक इन लोगों ने किन-किन लोगों से भारत में किस-किस की बात कराई तथा कितने लाखों का भारत सरकार को राजस्व का चूना लगाया। उन्होंने बताया कि ओवैस आलम मलिक मुरादाबाद का रहने वाला है। उसने अपने घर पर भी एक एक्सचेंजर लगा रखा है। मुरादाबाद पुलिस को सूचना दे दी गई है। वहां की पुलिस भी कार्रवाई कर रही है।